Share
NH Cover
indexhn.html
indexhr.html
intro.html
Nidana Heights Logo
!!!......इस वेबसाइट पर जहां-जहां भी जिस-जिस सन्दर्भ में "हरियाणा" शब्द का प्रयोग हुआ है वो आज के हरियाणा, दिल्ली, प्रस्तावित हरित प्रदेश, उत्तराखंड और उत्तरी राजस्थान से सम्बन्धित कहा गया है। क्योंकि वास्तविक हरयाणा यह सारा क्षेत्र मिला के बनता है, जिसके कि 1857 के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम के बाद व्यापारिक व् राजनैतिक मंशाओं के चलते अंग्रेजों ने टुकड़े करके सीमांतीय रियासतों में मिला दिए थे|......!!!
 

35. खापों की चौकसी और किसानों की वैज्ञानिक मेहनत का निडाना नगरी से "कृषि-कीटों को बचाने हेतु आगाज"!



कीटाचार्य किसानों ने खाप चौधरियों के सामने रखा कीटों का दर्द
 
Latest Mandi Rates
 
पिछले दाम:
Last rates:
एग्री मार्केट रेट्स:
 
 
हैरीवुड - Harywood: यह इस वेबसाइट पर उपलब्ध हरियाणवी इतिहास, किस्सों व् संस्कृति की रागणियों-लोकगीतों व् फ़िल्मी गीतों की सूची है; जिसके अंतर्गत हर किस्से/हिस्से की एक-एक रागणी/गीत किस्से/हिस्से के नाम के साथ सूचीबद्ध है| इस सूची के किसी भी किस्से/हिस्से को पूरा सुनने हेतु यहां क्लिक करें|
Albums
शहीद-ए-आजम भगत सिंह
Gopi-Chand
Films
फुट्कार
बीजा-सोरठ
अमर गौरक्षक हरफूल सिंह
अलबम: 'जाट बेकाबू होग्या'
चाळा होग्या रै
किसान-मजदूर
उपरां-तळी
फुटकार (रणबीर बड़वासणिया)
फुटकार (राजकिशन अगवानपुरिया)
गुरु गोरखनाथ के शब्द
दादा लख्मीचंद का ब्रह्मज्ञान
अमर धर्मरक्षक ज्ञानी चोर
शिवजी का ब्याह
कृष्ण-सुदामा
Shaheed Bhagat Singh
1857 अजादी विद्रोह व् हरियाणा
पाणीपत की चौथी लड़ाई
नया दौर
तुझे सत्-सत् नमन मेरे किसान
जागी महिला हरियाणा की
Haryana Vigyan Manch
हरियाणवी तीज-त्यौहार
Anti-Wine Campaign
डब्ल्यू. टी. ओ. (WTO)
परमाणु करार (Nuclear Deal)
Fouji Mehar Singh
1857 - Revolution
झलकारी बाई
सुण प्रधानमंत्री
Subhash Chander Bose
देशभक्ति - Patriotic
कर्षण जन्म
इस सूची के किसी भी किस्से/हिस्से को पूरा सुनने हेतु यहां क्लिक करें|
List on continuous growth
Disclaimer applied
 
NH Link Building
 









 
Local Emergency HelpLines
 

Police Station Julana:
01683-274719
Police Control Room Jind:
01681-245711, 100
Civil Hospital Jind (Emergency):
01681-245722
Civil Hospital Jind (Ambulance):
01681-245501
Fire Brigade Jind:
01681-251273
PGI Rohtak (Reception):
01262-211305, 2222
PGI Rohtak (Accident and Emergency):
01262-211304
UHS Rohtak:
01262-212812
Central Bank of India, Nidana:
01681-232322
Telephone Exchange, Nidana:
01681-232398
 
Highlighted & Featured
 
Description

Harywood in Bollywood - Latest Release Reviews

Review of presence, presentation or representation of Haryanvi, Haryanvinism and Haryana in terms of language use, actor, character, context and/or scenario in Bollywood Movies/Daily Soap-Operas/T. V. Debates. ...... read more
 
Description

मैं भाईचारे की माँ हूँ, गोदी से बच्चा कैसे छीन ले जाने दूँ!

पहली कक्षा से ले के अंत तक मेरी पूरी पढाई शहर में हुई, परन्तु जब भी छुट्टियों में गाँव जाता था तो वहाँ सिर्फ मेरा घर नहीं अपितु पूरी 36 बिरादरी के घर-लोग मेरे होते थे| आज जब समाज को कभी धर्म तो कभी जाति में तोड़ के राज करने वालों की गंदी राजनीति के चलते कहीं पैंतीस बनाम एक तो कहीं जाट बनाम नॉन-जाट छिड़ा हुआ है, ऐसे में यह यादें सर चढ़ के बोल रही हैं| और कह रही हैं क्या यूँ बैठे-बिठाए ही यह राजनेता तुम्हारे भाईचारे को ऐसे छीन ले जायेंगे, जैसे एक माँ की गोदी से बच्चा? आईये जरा बताऊँ आपको, मेरे हरयाणे की भाईचारे की परिभाषा दिखलाऊं आपको ......आगे पढ़िए
Description

श्री दादा नगर खेड़ा सभ्यता
जय दादा खेड़ा पाल की, खापलैंड के भाल की!

खापलैंड के हर गाँव में एक मंजिला, धरातल से वर्गाकार, सामान्यत: सफेद रंग का, शिखर पर गोल-गुम्बद, किसी प्रतिमा-मूर्ती से रहित छोटा सा खेड़ाल्य पाया जाता है जिसको आमभाषा में ......आगे पढ़िए
 
Description

अगर आज छोटूराम होते तो!

अगर किसान मसीहा दीनबंधु सुशासन के सर्वोत्तम प्रतीक सर छोटूराम इक्क्सवीं सदी में अवतारें तो किसानों-दीनहीनों के ऐसे कौनसे कार्य उनकी प्राथमिकता रहते, जैसे कि उन्होंने उनके प्रथम अवतार में किये थे? ......आगे पढ़िए
 
Description

The Nidana model of Biological control of Pests

NHCS-11: 'Historical Khap resolution on Pests and Pesticides'. This whole case study is an alive and most fresh evident cum example of learning ...... read more
 
Description

पल्ला-झाड़ संस्कृति!

किसी समाज-पंथ-देश का दुनियां पर वर्चस्व इसी बात से निर्धारित होता है कि वहां लिंग-भेद (gender-bias) किस स्तर का है। कोई मुझे पश्चिम (western europe) में बैठा होने के कारण कितना ही कोसे और ......आगे पढ़िए
 
Random Updates-Modifications-Add ups
 
e-Media > NH-Audios > किस्सा: शहीद-ए-आज़म सरदार भगत सिंह and 872 more new Haryanvi Audios

Guestbook Signature > Recently received from - Medha Rana, Jitender Godara, and Anil Kumar

Introduction > Demography > Nidana Village Complete Voters List

e-Library > Social Sciences - Books > Recently uploaded - 'The Trident, The Crescent and The Cross; and Karnal Gazzeteer, 1892

e-Media > NH-Press > Coverage on NH by 'The Tribune' and referential mentioning in 'The Newyork Times'

e-Media > Banners > Recently Added - "भूखे मरना है तो स्वाभिमान से मरो, लाचारी से नहीं|" and "किसानों को खुदरा-थोक-FMCG व्यापार में आना होगा"

Estate Chapters > Recently Added - Jahajgarh (Jhajjar), Mokhra and Jind

 
 
आत्मज्ञान - च्यांदणा - Enlightenment
 
न्यडाणा के बगड़!
मैं लुटेरों का बेटा हूं!
यह कविता हरियाणा के उन राजनीतिज्ञों और समाज-सुधार के ठेकेदारों के मुंह पर एक तमाचा है जिन्होंने हरियाणा को जाट बनाम गैर-जाट का महाभारत बना रख छोड़ा है| इस कविता में जो तथ्य कवितार्थ किये गए हैं वो सिर्फ इस कविता में नामित गाँव के ही नहीं अपितु हरियाणा के हर दूसरे गाँव की कहानी ऐसी ही है:

बगड़ गाम के दुर्ग हुए, बडेरे प्रहरी धुर लग हुए|
आधुनिकता नै तोड्या भाईचारा, दर्शन भी दुर्लभ हुए||

किलानुमे घेरे म्ह, कुणबे कई रह्या करदे,
दुःख-सुख सारे रळ-म्यल कें गहया करदे|
चोर-डाकू जो फंसया इनमें, लकड़ पाया नहीं,
यें बन्दोंबसत रयाह्स के चाक-चोबंद हुया करदे||
बगड़ गाम के दुर्ग हुए, बडेरे प्रहरी धुर लग हुए|

एक बगड़ सांझरण, जिसका दादा लछमन सरमाया,
ताहरी मर्जी ब्यन कदे बगड़ म च्यड़ा भी उड़ ना पाया|
दो दुर्ग हेलियाँ बीच को, बारणा सोसाइटी का बताया,
जाट-बाणिये दोनूं पड़ोसी, इनका बसेरा कट्ठा कुहाया||
बगड़ गाम के दुर्ग हुए, बडेरे प्रहरी धुर लग हुए|

एक बगड़ यू चेतु बाजै, दुन्नी के गेल नैं लाग्गें,
बाक्खे ओड़ नाई बसें, जीह्म्मर-डूम बीच जटवाड़े कै|
खात्तड़ की गूँज न्यरोळी, गाम की सबतें दूंगी खोळी,
खात्ती-छिम्बी अर जाट, बणा रे एक साज्झी कोळी||
बगड़ गाम के दुर्ग हुए, बडेरे प्रहरी धुर लग हुए|

इब बात खाडू की सुण ले, बीचों-बींच गाम कै बड़ ले,
बाहरणे पै दस्तक बयन, मुस्सी भी के भीतर बड़ ले|
नाई-जाटां का यू डेरा, पड़ोस लागते बाह्मण भी ले,
बाह्मण-बगड़ तीन बताये, भंता गाम का उत्तर गढ़ ले|
बगड़ गाम के दुर्ग हुए, बडेरे प्रहरी धुर लग हुए|

मढवे-लुहारां की एक गाळ, कुम्हार बसैं नाई-आळए की पाळ,
धाणक लय्कडै भंते की गाळ, एह्ड़ी-तेल्लियाँ का एक खाळ|
पराणी परस की बगल म, देख चमारां आळए बगड़ नैं,
फुल्ले-भगत तै न्यूं-ए कणछै, गलतफहमी ब्यन ना बासण तयड़कै||

बगड़ गाम के दुर्ग हुए, बडेरे प्रहरी धुर लग हुए|
आधुनिकता नै तोड्या भाईचारा, दर्शन भी दुर्लभ हुए||

लेख्क्क: फूल कुंवार म्यलक

ना मैं कोई खोजकर्ता,
ना कोई सियासतदान हूं।
खड़ा हूं कुछ सवाल लिए,
मैं हैरान हूं परेशान हूं।
कौन ललकारा शोशल मीडिया में,
कौन घिरा तलवारों में|
सफेद झूठ वो मुरथल का,
कैसे छप गया अखबारो में|
दुकान मकान के चर्चे ही चर्चे,
इन्सान जले का फिक्र नहीं।
जिसने भाईचारा फूंका है,
उस बंदर का कहीं जिक्र नहीं।
आज कोस रहे है 35 उनको,
जिसने कभी किसी को कोसा नहीं।
हैरान करती है भेड़चाल मुझको,
ये सांसद किसी का मौसा नहीं।
लुटेरों की कौम थी जिसने,
दुकान मकान सब तोड़ दिए|
पर सड़कों पे खड़े लदे ट्रक,
उन लुटेरों ने कैसे छोड़ दिये।
जिस बिस्तर पे राहगिरों को सुलाया,
अभी मैं भी उसी पे लेटा हुं।
गर फंसों को खिलाना लूट है,
तो गर्व है मुझे मैं लुटेरों का बेटा हूं।

लेख्क्क: रमेश चहल

द्यनांक: 12/03/16
 
छोटी-बड़ी 615 हरयाणवी कहावतें

615. जाट रांडा मरे दुर्भागा, ब्राह्मण भूखा मरे दुर्भागा
614. जिनके मर ज्या बादशाह रोते फिरें वजीर!
613. सीख बिराणी, करै कुणबा घाणी!
612. कुल्हड़ी म्ह गुड फोड़ना!
611. कोड्डे हो कें ऊंटा की चोरी नी होया करदी!
610. घर देख कै खावे, पडोसी देख कमावे!

 
Legendary figures admired locally

Dadavir Bhoora Singh Dalal Ji
Dadavir Nihanghiya Singh Dalal Ji
यौद्धेय शिरोमणी दादा चौधरी जाटवान जी महाराज
Samarvir Shri Gokula Veer Maharaj
Amarjyoti Bhagat Phool Singh Malik
Dada Ghasi Ram Ji Malik

 
NH Opinion Adda
 
Debates and Reviews
Sr.
Event/Story/Serials
Doc
91
90
89
88
87
86
85
84
What is NH Point-View: Purpose is to analyse such various T.V. Debates and Print Media stuff which revolves around rural life of India.
 
 
NH Notes
 
Heritage, Pride and Appeals
Sr.
Event/Story
Doc
78
77
76
75
74
73
What is NH Short-Note: Section for one or two page articles and stories.
 
 
NH Thumbs-up
 
Applauding/Enlightening
Sr.
Event/Story
Doc
105
104
103
102
101
100
99
98
97
96
95
94
 
 
NH Thumbs-down
 
Rectifiables/Avoidables
Sr.
Event/Story
Doc
65
64
63
62
61
60
59
58
57
56
55
 
 
Law and Life
 
Cases/Clauses/Referrals
Sr.
Event/Story
Doc
30
29
28
27
26
 
 
Uncommons and Abnormals
 
Brilliances
Sr.
Event/Story
Doc
14
14th Murray's Jat Lancers in Age of Empire III – Asian Dynasties Video Game
13
Yogi with exceptional charisma of body scquizzing and respiration capacity
click here to watch the video
12
Operating a tractor without driver through remote mobile
click here to view the video
11
Wonder boy with extraordinary creativity

click here for enlarge view
10
(a+b)2=a2 + b2 + 2ab, so simplified!

click here for enlarge view
 
Nidana Heights Research Lab (NH ReL)
हरियाणा यौद्धेय उद्घोषम्
"जय दादा नगर खेड़ा बड़ा बीर (दादा बैया/दादा भैया/बड़े दादा/बाबा भूमिया/बाबा जठेरा/ग्राम खेड़ा)"
मोर पताका: सुशोभम्
Haryana Yoddheya
जय माँ हरयाणवी! - जय दादी भारती!

माँ और मातृभूमि स्वर्ग से बेहतर हैं! - माँ अर मातरभूमि सुरग तैं स्याऊ हो सैं! - Mother and motherland are superior to Heaven
Mor Pataka
NH Research e-Lab: अगर आप स्थानीय स्तर के किसी भी सामाजिक, ऐतिहासिक, सांस्कृतिक, आर्थिक, शैक्षणिक या स्वास्थ्य सम्बन्धी विषय/विषयों के सकारात्मक और नकारात्मक पहलुओं या तथ्यों की गहरी समझ और चिंतन रखते हैं और मानते हैं कि आपके चिन्तन में इनके हल भी छुपे हैं| तो अपने विचार/लेख/श्वेत पत्र हिन्दी, हरियाणवी या अंग्रेज़ी भाषा में हमें nidanaheights@gmail.com or Contact Us पर भेजिए| हम उसका विश्लेषण कर हमारी वेबसाइट से प्रकाशित करेंगे|
विशेष: स्थानीय जाति, धर्म, वर्ग, आयु, लिंग विशेष पर आधारित चिंतन-लेखन, जो आज तक अनछुए रहे हों को प्राथमिकता देना हमारा ध्येय है| CS = Case Study, I = Incomplete
History-Politics

1. समाज का मोडर्न ठेकेदार
2. तालिबानी कौन?
3. आरक्षण, जातीय कानून व् किसान
4. The Original Haryana
5. बलात्कार अर ख्यन्डदा समाज
6. हरियाणा दिशा और दशा
7. Shakti-Vahini vs. Khap CS-8
8. हरयाणे के वीर योद्धेय
9. Listen Akhtar Saheb
10. खाप बनाम मीडिया
11. Cultural Slaves
12. खाप इतिहास
13. विकृत आधुनिकता
14. बदनाम होता हरियाणा
15. 15 अगस्त के अवसर पर
16. Muzaffarnagar Riots
17. हिन्दू धर्मरक्षक गोकुला जी महाराज
18. योद्धेय भूरा जी - निंघाईया जी
19. दादीराणी भागीरथी देवी जी
20. प्रथम विश्वयुद्ध व् जाट
21. हिंदुत्व की सबसे बड़ी समस्या
22. जाट के आई जाटणी कहलाई
23. माननीय प्रधानमंत्री जी
24. खाप बनाम तैमूर-लंग
25. मन की बात और हरयाणा
Socio-Culture

1. Property Distribution CS-3
2. Gaut System CS-4
3. Legend of SarvkhaapCS-6
4. श्री दादा नगर खेड़ा सभ्यता
5. धारा 302 किसके खिलाफ?
6. खापों की न्यायिक विरासत
7. गाम का मोड़ - लघु-नाटिका-1
8. आर्य समाज के बाद क्या?
9. गाम आळा झोटा - लघु-नाटिका-2 I
10. पढ़े-लि्खे जन्यौर - लघु-नाटिका-3 I
11. रत्नावली 2012
12. त्यजणा होगा - संजोयें रहणा होगा
13. सम्बोधनां की मरम्मत
14. सर्वजातीय तंत्र खाप
15. संस्कृति के असली वाहक
16. जेंडर-इक्वलिटी
17. Ratnawali 2013
18. खाप सोशल इन्जिनीरिंग
19. सुनिये चिदंबरम साहब
20. पर्दामुक्त हरियाणा अभियान
21. जाट छवि बनाम मंडी-फंडी
22. भाईचारे की माँ का दर्द
Psychological

1. Agri vs Corporate Ethics CS-5
2. धूल का फूल
3. रक्षा का बंधन
4. बेबस दुल्हन
5. प्रगतिशीलता
6. Woman as a commodity
7. Types of Love
8. Marriage Anthropology CS-9
9. ऊंची सोच
10. बच्चों पर हैवानियत
11. Gender Ratio Haryana
12. साहित्यिक विवेचना
13. अबोध युवा-पीढ़ी
14. बड़ का पंछी
15. छुटा हुआ सांड निडाना
16. पल्ला-झाड़ संस्कृति
17. जाटों की ब्राह्मिणवादिता
18. पर्दा-प्रथा को जाना होगा
19. भरी-थाली को ठुकरानेवाला
20. इच्छाशक्ति
21. किशोरावस्था व सेक्स मैनेजमेंट
22. भ्रामक हरियाणवी धारणाएं
23. हरयाणवी मनोज कुमार
Dr. Dalal Agri-Eco Lab

1. Farmer's Balancesheet CS-1
2. Right to price of crope CS-2
3. खाप-खेत-कीट पाठशाला CS-7
4. जलवायु संकट
5. Farmer & Civil Honor CS-10
6. Economy of Nidana
7. भारी पड़ती कृषि लागत
8. पशोपेश किसान
9. डॉक्टर दलाल - एक श्रदांजली
10. किसान खेत पाठशाला 2013
11. 'बोलना ले सीख' से आगे
12. किसान खेत पाठशाला 2014
13. वंचित किसान
14. खेत-कीटावली 2014
15. अगर आज छोटूराम होते तो
16. अजगर की फूट पर पनपती राजनीति
17. असहयोग आंदोलन की घड़ी
18. मंडी-फंडी और किसान
19. Khap Resolution on Pests CS-11
Art & Life

1. Splendour of Chaupals
2. Changes in Haryana Villages
3. भित्तिचित्रों के संरक्षण की जरूरत
4. Art of Haryanvi Kumhaars
5. हरिगंधा लोकवार्ता
6. हरियाणा का लोक-इतिहास
7. हरियाणा की धर्मशाला-परम्परा
8. Woodcrafts in Haryana
9. On trail of Rabaris
10. हरियाणा की आहार परम्परा
11. Fading Frescoes of Haryana
12. बच नहीं पाई बुनकरों की धरोहर
13. Crumbling Heritage of Haryana
14. Kuans-Baolis of Haryana
15. Saanjhi - The folk art
16. Salvaging Symbols of Haryana
17. हरियाणा की धाड़ संस्कृति
18. प्राचीन भारत को जाट की देन
19. Masonry Tanks of yore
Description

मीडिया की अनिमंत्रित व् अनियंत्रित ट्रायलें बंद हों|

कानून नागरिक के मानसिक संतुलन की रक्षा करे|

जब पुलिस तक को बिना कानूनी वारंट के किसी भी आम नागरिक को इन्टेरोगेट करने की इजाजत नहीं तो फिर यह इजाजत मीडिया को कैसे मिली हुई है और कौनसे भारतीय कानून ने दी हुई है कि सामने वाले की मर्जी हो या ना हो, जाओ और उसके मुंह के आगे माइक लगा के कर दो अपनी भड़ास रुपी सी दिखती सवालों की बौछार? निसंदेह: अब इस पर भारतीय जनता को कानून माँगना होगा और मीडिया की इस गैर-जरूरी और हद से बाहर झाँकने व् बिना किसी कोर्ट-कानून के जनता के बीच से किसी की भी मीडिया-ट्रायल बनाने की बिगड़ैल आदतों पर नकेल लगानी होगी| आखिर कहीं तो किसी की जिम्मेदारी होगी, आम आदमी को इनकी अनिमंत्रित व् अनियंत्रित टॉर्चेरिंग से बचाने की? - NH
 
Description

गर्व से कहिये, 'मैं हरियाणवी हूँ'!

ब्याह-शादी, तीज-त्योहारों पर अपने पहनावे प्रणाइये|

ठीक है आधुनिक वैश्विकता का जमाना है और हर जगह और हर मौके पे ना तो मर्द धोती-कुर्ता/कुर्ता-पायजामा पहन सकता और ना ही औरत कुर्ता-दामण; लेकिन ब्याह-शादी और तीज-त्योहारों की बेलाओं पर इनका पहनना, आदान-प्रदान जारी रखने में क्या हर्ज? जब एक बंगाली शादी करता है तो शुद्ध-परम्परागत बंगाली पहनावा, पंजाबी पंजाबी पहनावा, तेलुगु, तमिल, मलयाली, पहाड़ी, गुजराती सब अपने-अपने परम्परागत वेश-भूषा पहनना गर्व और आनंद की बात समझते हैं तो फिर हम हरियाणवी क्यों पीछे रहें? आइये अपने पहनावे को अपनी पहचान दें! - NH
 
Description

शस्त्र-शास्त्र हर कोई सीखे!

कर्मक्षेत्र गुण से निर्धारित हो, जन्म से नहीं!

जब एक शास्त्र हाथ में रखने वाला, दूसरे हाथ में शस्त्र रख सकता है या रखने की काबिलियत रखता होता है तो एक शस्त्र हाथ में रखने वाला, दूसरे हाथ में शास्त्र रखने की काबिलियत क्यों नहीं रखता होगा या रख सकता? इंसानों को सात्विक-तामस-राजस गुण के हिसाब से बड़े होने दीजिये, फलने-फूलने दीजिये, उन्होंने किस जाति-वर्ण में जन्म लिया है, उसके अनुसार उनपे उनका कर्म या उनकी क्षमता मत थोंपीए! किसी इंसान का सात्विक-राजस-तामस गुण का होना ना ही तो किसी जाति-विशेष के बपौती हैं और ना ही वर्ण विशेष की, किसी भी गुण का इंसान किसी भी जाति अथवा वर्ण में जन्म ले सकता है| - NH
NH Inside
Proverbs - 615
Audios - 1255 (69 Albms)
Charts - 40
Poetry - 284
NH Articles - 137
e-Books - 46 (16 Links)
Helplines - 10
Infodesks - 15 (265 Links)
Videos - 212 (15 Series)
Tables - 31
Chhann - 135
Ref. Articles - 118
Estate Chapters - 35
Survery - 2
Pages - 301 (in 3 languages)
Photos - 897 (38 Albms)
Reports -11
Puzzles - 74
Case Studies - 11
Personality Profiles - 27
Job Sites - 36
Core Text Size ≈ 1647 pages
Banners & Messages - 96
Posters - 20
Local Tips - 65
References - 329
Guestbook Signatures - 45
Quotes - 102
Pageviews: 1207846
© Nidana Heights 2012-19